khabar7 logo
gujrat

तोगड़िया की कहानी को पुलिस ने बताया रचा हुआ ड्रामा : गिरफ्तारी से बचने को खेला पूरा खेल !!

by Khabar7 - 16-Jan-2018 | 12:17:57
तोगड़िया की कहानी को पुलिस ने बताया रचा हुआ ड्रामा : गिरफ्तारी से बचने को खेला पूरा खेल !!

16, जनवरी 2018,

अहमदाबाद !!

VHP के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया की गुमशुदगी मामले में बड़ी जानकारी सामने आ रही है। पुलिस ने दावा किया है कि तोगड़िया ने राजस्थान पुलिस की गिरफ्तारी से बचने के लिए खुद यह सारा ड्रामा रचा था। पुलिस ने उस शख्स का भी पता लगा लिया है जिसने 108 ऐम्बुलेंस को फोन किया था। वह शख्स तोगड़िया का ही परिचित है। बता दें कि राजस्थान पुलिस सोमवार को तोगड़िया को एक दस साल पुराने केस में अदालत के आदेश पर गिरफ्तार करने आई थी।

गिरफ्तारी से बचने के लिये यह किया गया सन !

ऐसा नही लगता कि गिरफ्तारी से बचने के लिये यह सन किया गया, क्योंकि इस प्रकार के ड्रामे से गिरफ्तारी से नही बचा जा सकता| निश्चित रूप से कोई अन्य ही मामला है जिसकी छानबीन करना अति आवश्यक है !

एक सीनियर पुलिस अधिकारी के मुताबिक, जब तोगड़िया को पता चला कि राजस्थान पुलिस उन्हें गिरफ्तार करने के लिए आने वाली है तो वह VHP ऑफिस से एक ऑटो में बैठकर रवाना हो गए। उनके साथ धीरू कपूरिया भी थे जो VHP ऑफिस में ही काम करते हैं। ऑटो से तोगड़िया अपने एक करीबी दोस्त के यहां गए। वहां निकुल नाम का एक शख्स भी उनके साथ हो लिया। निकुल तोगड़िया के करीबी दोस्त का ड्राइवर है। 

पुलिस से मिली पुरे मामले की जानकारी !

पुलिस ने बताया कि निकुल ने ही रात में कोटारपुर के पास 108 ऐम्बुलेंस को कॉल किया और स्टाफ से कहा कि वे तोगड़िया को सीधे चंद्रमणि अस्पताल ले जाएं। चंद्रमणि अस्पताल में तोगड़िया के करीबी दोस्त पहले से मौजूद थे। अस्पताल पहुंचते ही तोगड़िया को भर्ती कर लिया गया। 

पुलिस की थिअरी साफ इशारा कर रही है कि गिरफ्तारी से बचने के लिए तोगड़िया दिनभर यहां वहां भागते रहे। राजस्थान पुलिस उनके घर भी गई, लेकिन वह पहले ही निकल चुके थे। पुलिस की मानें तो वीएचपी द्वारा उनकी गुमशुदगी की शिकायत और उनकी सलामती को लेकर किया गया धरना-प्रदर्शन सिर्फ एक ड्रामा था। 

राजस्थान की गंगापुर कोर्ट दंगे के मामला !

राजस्थान की गंगापुर कोर्ट ने दस साल पुराने दंगे के एक मामले को लेकर तोगड़िया के खिलाफ अरेस्ट वॉरंट जारी किया था। कई बार जमानती वॉरंट जारी होने के बावजूद जह वह कोर्ट में पेश नहीं हुए तो कोर्ट ने उनके खिलाफ गैर-जमानती वॉरंट जारी कर दिया। इसी वॉरंट को तामील कराने के लिए राजस्थान पुलिस सोमवार को अहमदाबाद आई थी, लेकिन तोगड़िया के न मिलने पर उसे बैरंग लौटना पड़ा। 

Share: