टोयोटा की कार से चांद पर घूम सकेंगे आप, साल के अंत में लैंड कराने की संभावना !!

हाईलाइट्स –
टोयोटा ने भारत के लिए लॉन्च की लैंड क्रूजर कार !
अगले कुछ दशकों में चांद पर दौड़ेगी टोयोटा की कार !
मंगल ग्रह पर भी कार को भेजने की योजना !

नई दिल्ली !!
हाल ही में जापानी कंपनी टोयोटा ने भारत के लिए लैंड क्रूजर कार को लॉन्च किया. यह कार युवाओं को खासा पसंद आ रहा है. लेकिन अगर सब कुछ सही रहा तो अगले कुछ दशकों में टोयोटा की कार चांद पर दौड़ेगी. न सिर्फ चांद पर बल्कि यह कार मंगल की सतह पर चलने में कामयाब हो सकती है. जापानी कार निर्माता कंपनी ने इसके लिए जापानी स्पेस एजेंसी से हाथ मिलाया है. इसके तहत चांद की सतह पर चलने वाली कार को चांद के वातावरण के हिसाब से बनाया जा रहा है. इस महत्वाकांक्षी परियोजना का उद्देश्य लोगों को 2040 में चांद पर पहुंचाना है और इसके बाद मंगल ग्रह पर भी कार को भेजने की योजना है|

टोयोटा कंपनी जापानी एयरोस्पेस एक्सप्लोरेशन एजेंसी (JAXA) के लिए प्रेसराइज्ड लुनर रोवर बना रही है जिसमें इलेक्ट्रिक व्हीकल टेक्नोलॉजी वाली बेटरी लगाई जाएगी. रिपोर्ट के मुताबिक टोयोटा की कार में 2 दो लोग 14 दिन तक चांद पर रह सकते हैं. कार में ही भोजन का बंदोबस्त होगा जिसे यात्री अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल कर सकते हैं|

14 दिनों तक कार मे रह सकेंगे यात्री !
दिलचस्प बात यह है कि यह कार पूरी तरह से सुरक्षित होगी और इसमें बैठकर लोग धरती पर आसानी से संपर्क स्थापित कर सकेंगे. इससे अंतरिक्ष के बाहर चक्कर लगाया जा सकता है. अपनी चर्चित एसयूवी लैंड क्रूजर की तर्ज पर इस कार का नाम लुनार क्रूजर रखा गया है, जिसे जापान की स्पेस एजेंसी (जाक्सा) के साथ मिलकर बनाया जा रहा है. इस परियोजना के प्रमुख ताकाओ साटो का कहना है कि इसके जरिए हम अंतरिक्ष में जाकर वहां से संचार कर सकेंगे जो मानवता के लिए बेहद फायदेमंद साबित होगा. वहीं इस लुनार क्रूजर के लिए गिताई नाम की जापानी कंपनी एक रोबोटिक हाथ बना रही है जो जांच करने, चीजों की देख रेख करने में काम आएंगे. इससे चांद पर एस्ट्रोनॉट को अपनी जान को जोखिम में डाल कर दूसरा काम नहीं करना पड़ेगा. चांद पर बाहर काम करना बेहद खर्चीला भी है लेकिन रोबोटिक हाथ लगने से यह काम आसान हो सकता है|

सपने पूरा होने जैसा होगा !
कार निर्माता कंपनियों में टोयोटा की दुनिया भर में पहचान है. 1930 में टोयोटा की स्थापना हुई थी लेकिन पिछले कुछ वर्षों से कंपनी बदलाव को लेकर चिंतित है और उसे अपने व्यापार के खोने का डर सताता रहा है. यही कारण है कि टोयोटा इन दिनों लगातार नए-नए व्यवसायों की तरफ ध्यान दे रही है. वहीं जापान भी लगातार चांद पर जाने के लिए लालायित रहा है. एक निजी जापानी कंपनी आईस्पेस पहले से ही चांद पर जाने वाले रोवर पर काम कर रहा है. उधर टोयोटा के इंजीनियर शिनिचिरो नोडा का कहना है कि चांद परियोजना को लेकर वह काफी उत्साहित. उनकी कंपनी लंबे समय से दुनिया के कोने कोने में लोगों को कार उपलब्ध करवाते रहे हैं. आज दुनियाभर में उनकी कार दौड़ती है. ऐसे में वह उस जगह अपनी कार से लोगों को भेजना चाह रहे थे जहां आज तक कार नहीं गई. ऐसे में चांद पर जाने के लिए कार बनाना किसी सपने के पूरा होना जैसा है|

Pinterest
LinkedIn
Share
Telegram
WhatsApp