मथुरा : हाईकोर्ट में शाही मस्जिद को कृष्ण जन्मभूमि की मान्यता वाली याचिका मंजूर !!

हाईलाइट्स –
पहले कोर्ट ने नामंजूर कर दी थी याचिका !
कोर्ट ने कहा कि समय रहते अर्जी दाखिल कर दी गई थी !
जन्मभूमि की दाखिल याचिका पर सुनवाई हाईकोर्ट ने अहम आदेश !

मथुरा/इलाहाबाद !!

मथुरा जन्मभूमि को लेकर दाखिल याचिका पर सुनवाई करते हुए इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अहम आदेश दिया है. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने मथुरा शाही ईदगाह मस्जिद को कृष्ण जन्मभूमि की मान्यता देने की मांग में दाखिल याचिका पुनर्स्थापित कर ली है. कोर्ट ने कहा कि समय रहते अर्जी दाखिल कर दी गई थी. आपको बता दें कोर्ट ने 19 जनवरी 2021 को अदम पैरवी में याचिका खारिज कर दी थी. अब याचिका की सुनवाई की अगली तिथि 25 जुलाई 2022 नियत की गई है. यह आदेश चीफ जस्टिस राजेश बिंदल तथा न्यायमूर्ति प्रकाश पाडिया की खंडपीठ ने अधिवक्ता महक माहेश्वरी की याचिका पर दिया है|

याची का कहना है कि, मथुरा में मंदिर तोड़कर बनी शाही ईदगाह मस्जिद को हटाकर कृष्ण जन्मभूमि मंदिर निर्माण कराया जाए. सारी जमीन हिंदुओं को सौंप दी जाए. कृष्ण जन्मभूमि को जन्म स्थान ट्रस्ट बनाया जाए. जब तक इस मामले में फैसला नहीं आ जाता है, तब तक जन्माष्टमी के दिन हिंदुओं को ईदगाह में श्रीकृष्ण जन्म स्थान पर पूजा-अर्चना करने की इजाजत दी जाए. याची की मांग है कि, मथुरा के राजा कंस ने भगवान कृष्ण के माता-पिता को कारागार में डाल दिया था. जहां पर श्री कृष्ण का जन्म हुआ. मुगल काल में मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाई गई है|

यह भी पढ़ें :- योगी का मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह पर जानलेवा हमले की कोशिश, गए थे नामांकन कराने !!

याचिका में मांग की गई है कि, कोर्ट की निगरानी में ASI से सर्वे और खुदाई कराकर जन्मस्थान मंदिर का पता लगाया जाए. याची का यह भी कहना है कि, मस्जिद इस्लाम का आवश्यक अंग नहीं है. कहीं भी इबादत की जा सकती है, इसलिए विवादित जमीन हिंदुओं को सौंपी जाए, जिससे हिन्दू संविधान प्रदत्त अनुच्छेद 25 के मूल अधिकारों का स्वतंत्रता पूर्वक प्रयोग कर सके और जन्म स्थान में पूजा-पाठ कर सकें. आपको बता दें कि, बनारस में काशी विश्वनाथ कॉरिडोर बनने के बाद मथुरा को लेकर भी इस तरह की मांग उठने लगी है|

Pinterest
LinkedIn
Share
Telegram
WhatsApp