कोलकाता हाईकोर्ट का फैसला- बीरभूम हिंसा की जांच करेगी CBI !!

हाईलाइट्स –
बीरभूम के रामपुरहाट में हुई थी हिंसा !
हिंसा-आगजनी में 8 लोगों की हो गई थी मौत !
मामले में अब तक 20 लोगों की गिरफ्तारी !

कोलकाता !!
बीरभूम हिंसा और आगजनी केस की अब CBI जांच होगी. कलकत्ता हाईकोर्ट ने इसका आदेश दिया है. बता दें कि बीरभूम जिले के रामपुरहाट में TMC नेता की हत्या के बाद हिंसा भड़क गई थी. यहां कई घरों को आग के हवाले कर दिया गया था. आग से जलकर 2 बच्चों समेत 8 लोगों की मौत हो गई थी. इसमें 3 महिलाएं भी शामिल थीं. इस मामले में अब तक 20 लोगों की गिरफ्तारी हुई है|

अब बंगाल पुलिस की SIT मामले को CBI को सौंप देगी. कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा है कि सबूतों और घटना का असर बताता है कि राज्य की पुलिस इसकी जांच नहीं कर सकती. बीरभूम हिंसा में कोलकाता हाईकोर्ट ने भी स्वत: संज्ञान लेते हुए सुनवाई की थी. हाईकोर्ट ने पहले खुद CBI जांच की मांग को नकार दिया था और कहा था जांच का पहला मौका राज्य को दिया जाना चाहिए|

यह भी पढ़ें :- बीरभूम हिंसा : अपनी ही पार्टी और पुलिस पर ममता का एक्शन, नेता गिरफ्तार-थाना प्रभारी सस्पेंड !!

पश्चिम बंगाल के बीरभूम में हुई हिंसा का मामला सुप्रीम कोर्ट भी पहुंच गया है. सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दायर की गई है. याचिका में सुप्रीम कोर्ट के रिटायर जज की अध्यक्षता में SIT गठन कर जांच की मांग की गई है. याचिका में कहा गया कि इस मामले में SIT या फिर CBI से इस मामले की जांच कराई जाए. यह याचिका हिंदू सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष विष्णु गुप्ता ने दाखिल की है|

फॉरेंसिक रिपोर्ट ने चौंकाया !
पश्चिम बंगाल में बीरभूम में हिंसा के मामले में फॉरेंसिक रिपोर्ट में चौंकाने वाला दावा किया गया है. रिपोर्ट के मुताबिक, मृतकों को जिंदा जलाने से पहले बुरी तरह से पीटा गया था. बीरभूम हिंसा में चौतरफा घिरी ममता बनर्जी सरकार ने अब एक्शन लेने शुरू कर दिए हैं. मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद TMC के ही आरोपी नेता अनारुल हुसैन को गिरफ्तार कर लिया गया है. वहीं, इलाके के थाना प्रभारी को त्रिदीप प्रमाणिक को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है|

यह भी पढ़ें :- EPF पर ब्याज दरों में कटौती पर ममता का तंज, कहा- जीत के बाद उपहार लेकर आई भाजपा !!

रामपुरहाट में हिंसा को लेकर भाजपा और TMC के बीच घमासान जारी है. TMC सांसदों ने गुरुवार को गृह मंत्री अमित शाह ने मुलाकात की और हिंसा पर बयानबाजी को लेकर राज्यपाल जगदीप धनखड़ को हटाने की मांग की|

Pinterest
LinkedIn
Share
Telegram
WhatsApp