भारत में मिला XE वेरिएंट ? स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- अभी और जांच की जरूरत !!

हाईलाइट्स –
भारत में XE वैरिएंट का पहला केस मिला : BMC !
अफ्रीका से लौटी 50 साल की महिला XE वैरिएंट से संक्रमित !
स्वास्थ्य मंत्रालय ने खबरों का खंडन किया !

मुंबई !!
भारत में कोरोना वायरस के XE वैरिएंट के पहले केस पर सस्पेंस बना हुआ है. दरअसल, BMC ने बुधवार को दावा किया कि एक 50 साल की महिला जो हाल ही में साउथ अफ्रीका से लौटी है, वो कोराना के नए वैरिएंट XE से संक्रमित है. इसके बाद कहा जाने लगा कि यह भारत में XE वैरिएंट का पहला केस है. हालांकि, कुछ देर बाद ही केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने इन खबरों का खंडन कर दिया. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि मौजूदा सबूत कोरोना के नए XE वैरिएंट के पाए जाने की पुष्टि नहीं करते. अभी इस बारे में और जांच किए जाने की जरूरत है|

XE ओमिक्रॉन का सब वैरिएंट बताया जा रहा है. ओमिक्रॉन से ही भारत में कोरोना की तीसरी लहर आई थी. हालांकि, XE के केस को लेकर बहस ऐसे वक्त पर छिड़ी, जब भारत में करीब दो साल बाद रोजाना 1000 से कम केस आ रहे हैं|

क्या है XE वैरिएंट ?
भारत में इस साल कोरोना के कुल केसों में से 90% ओमिक्रॉन के मिले थे. ओमिक्रॉन के दो सब वैरिएंट BA.1 और BA.2 सामने आए हैं. हालांकि, इसका BA.3 वैरिएंट भी है. शुरुआती दौर में BA.1 सब वैरिएंट सबसे ज्यादा देखने को मिला. हालांकि, भारत में BA.2 के चलते तीसरी लहर देखने को मिली|

यह भी पढ़ें :- खत्म नहीं हुआ कोरोना : सामने आया नया XE वैरिएंट, ओमिक्रॉन BA.2 से 10 गुना ज्यादा खतरनाक !!

BA.2 को BA.1 की तुलना अधिक संक्रमित है. हालांकि यह ज्यादा खतरनाक नहीं रहा. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक, पिछले कुछ महीनों में दुनिया भर में BA.2 के केस सामने आए हैं. पिछले 1 महीने में दुनिया में मिले ओमिक्रॉन केसों के 94 प्रतिशत केस BA.2 वैरिएंट के हैं. BA.1 के केस काफी तेजी से कम हुए हैं. वहीं, XE में BA.2 और BA.1 का म्यूटेशन पाया गया है. XE का पहला केस जनवरी में यूके में मिला था. अब तक इसके 600 केस सामने आ चुके हैं|

कितना खतरनाक है XE वैरिएंट ?
अभी तक ऐसे कोई सबूत नहीं मिले हैं, जो यह बताते हों कि XE वैरिएंट ओमिक्रॉन के अन्य वैरिएंट से अलग है. बताया जा रहा है कि XE BA.2 वैरिएंट से सिर्फ 10% ज्यादा संक्रामक है. हालांकि, अभी इसकी पुष्टि नहीं हुई है.

यह भी पढ़ें :- आ रही है कोरोना की चौथी लहर? 7 राज्यों में फैला नया वैरिएंट, जानिए लक्षण !!

इतना ही नहीं तीन महीने पहले मिले इस वैरिएंट से अभी तक कोई बड़ा खतरा सामने नहीं आया है, न ही बाकी वैरिएंट की तुलना में तेजी से केस बढ़े हैं. यानी यह बताता है कि XE वैरिएंट अभी तक चिंता का विषय नहीं है|

क्या भारत आ सकता है XE वैरिएंट ?
अगर भारत में XE वैरिएंट के केस की पुष्टि होती है, तो यह चौंकाने वाली बात नहीं है. क्योंकि भारत ने लगभग सभी देशों से यात्रा संबंधी प्रतिबंध हटा लिए हैं. ऐसे में विदेशी यात्री भारत आ रहे हैं, जबकि भारत के नागरिक अन्य देशों में जा रहे हैं. इसके अलावा भारतीय आबादी के भीतर XE, या ओमिक्रॉन के अन्य किसी वैरिएंट के विकसित होने की संभावना से भी इनकार नहीं किया जा सकता. यह भी हो सकता है कि भारत में XE के केस हों, लेकिन अभी तक डिटेक्ट नहीं हुए हों|

Pinterest
LinkedIn
Share
Telegram
WhatsApp