सत्ता में बैठे लोगों ने ‘द कश्मीर फाइल्स’ फिल्म का प्रचार किया : शरद पवार !!

हाईलाइट्स –
फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ लगातार सुर्खियों में !
फिल्म को नहीं मिलनी चाहिए थी हर झंडी : शरद पवार !
सत्ता में बैठे लोगों ने फिल्म का प्रचार किया, ये दुर्भाग्यपूर्ण है !

मुंबई !!
कश्मीरी पंडितों के पलायन पर आधारित फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ लगातार सुर्खियों में है. इस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर कमाई के मामले में इतिहास रच दिया है. बड़ी संख्या में जनता इस फिल्म को प्यार दे रही है. लेकिन इसके बावजूद एक बड़ा तबका इस फिल्म की लगातार आलोचना भी कर रहे हैं. इसी कड़ी में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार ने एक हफ्ते के अंदर लगातार दूसरी बार फिल्म की आलोचना की है. उन्होंने कहा है कि ये बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि सत्ता में बैठे लोगों ने इस फिल्म का प्रचार किया. इससे पहले उन्होंने कहा था कि ऐसी फिल्म को स्क्रीनिंग के लिए मंजूरी नहीं मिलनी चाहिए थी|

यह भी पढ़ें :- ‘The Kashmir Files’ ने तोड़े कमाई के रिकॉर्ड, जानिए अब तक का कलेक्शन !!

शरद पवार ने फिल्म की आलोचना करते हुए कहा, ‘एक शख्स ने हिंदुओं पर हो रहे अत्याचार को दिखाते हुए फिल्म (द कश्मीर फाइल्स) बनाई. ये दर्शाता है कि बहुसंख्यक हमेशा अल्पसंख्यक पर हमला करते हैं और जब वह बहुमत मुस्लिम होता है, तो हिंदू समुदाय असुरक्षित हो जाता है. ये दुर्भाग्यपूर्ण है कि सत्ता में बैठे लोगों ने इस फिल्म का प्रचार किया’|

इससे पहले पिछले हफ्ते भी शरद पवार ने फिल्म की आलोचना की थी. अपनी पार्टी की दिल्ली इकाई के अल्पसंख्यक विभाग के एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा था, ‘ऐसी फिल्म को स्क्रीनिंग के लिए मंजूरी नहीं देनी चाहिए थी. लेकिन इसे टैक्स में छूट दी गई है और देश को एक रखने के लिए जिम्मेदार लोग, जनता को फिल्म देखने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं, जिससे लोगों में गुस्सा फूट रहा है’|

यह भी पढ़ें :- ड्रग्स केस में आर्यन खान को बड़ी राहत, SIT जांच में नहीं मिला कोई सबूत !!

मुसलमानों को भी निशाना बनाया गया !
पवार ने ये भी कहा था कि ये सच है कि कश्मीरी पंडितों को घाटी छोड़नी पड़ी, लेकिन मुसलमानों को भी इसी तरह निशाना बनाया गया. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान स्थित आतंकवादी समूह कश्मीरी पंडितों और मुसलमानों पर हमलों के लिए जिम्मेदार थे. पूर्व केंद्रीय मंत्री ने भी कहा कि अगर नरेंद्र मोदी सरकार वास्तव में कश्मीरी पंडितों की परवाह करती है, तो उसे उनके पुनर्वास के लिए हर संभव प्रयास करना चाहिए और अल्पसंख्यकों के प्रति उनके मन में गुस्सा नहीं जगाना चाहिए|

Pinterest
LinkedIn
Share
Telegram
WhatsApp