यूक्रेन की तबाही से भरा नहीं पुतिन का मन, चांद पर कब्जे के लिए बनाया मास्टरप्लान !!

हाईलाइट्स –
पुतिन ने स्पेस प्रोग्राम के लिए नई योजनाओं का ऐलान किया !
बनाएंगे अत्याधुनिक स्पेसशिप, रखेंगे चांद पर कदम !
ISS पर नासा और ESA के साथ कम करने से रूस का इनकार !

मॉस्को !!
रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध को 50 दिन पूरे हो चुके हैं। यूक्रेन में भारी तबाही मचाने के बाद भी रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को संतुष्टि नहीं मिली है। पुतिन ने एक बिल्कुल ‘नए क्षेत्र’ पर कब्जा करने के लिए अपनी महत्वकांक्षी योजनाओं की घोषणा की है। मंगलवार को पुतिन ने कहा कि रूसी स्पेस एजेंसी को अंतरिक्ष की खोज में आने वाली चुनौतियों का सफलतापूर्वक सामना करने की जरूरत है। उन्होंने दावा किया कि इसके लिए रूस ‘अत्याधुनिक स्पेसशिप’ और न्यूक्लियर स्पेस टेक्नोलॉजी विकसित करेगा।

यह भी पढ़ें :- अमेरिका ने उठाया मानवाधिकार का मुद्दा, भारत ने दिया करारा जवाब !!

पुतिन ने कहा कि रूस इस साल के अंत तक चंद्रमा पर एक मानव रहित अंतरिक्ष यान भेजेगा। लूना 25 मिशन के लॉन्च की तारीख पहले 2016 थी, जिसके बाद इसे 2018 और फिर 2021 तक के लिए आगे बढ़ा दिया गया था। पुतिन ने अपनी महत्वकांक्षी अंतरिक्ष योजनाओं का खुलासा ऐसे समय पर किया है जब कुछ दिनों पहले ही रूस ने अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन से खुद को अलग करने की घोषणा की थी। रूस ने कहा कि वह नासा और यूरोपीय स्पेस एजेंसी के साथ काम नहीं करेगा।

रूस ने स्पेस स्टेशन के अस्तित्व को खतरे में डाला !
रूस ने जब ISS पर 23 साल पुरानी साझेदारी को खत्म करने का ऐलान किया तो स्पेस स्टेशन के अस्तित्व पर भी खतरा मंडराने लगा। रूसी स्पेस एजेंसी रोस्कोस्मोस के प्रमुख दिमित्री रोगोज़िन ने कहा था कि ISS पर प्रोजेक्ट के पूरे होने का टाइम टेबल जल्द ही रूसी नेतृत्व को सौंपा जाएगा। रूस ये कदम यूक्रेन युद्ध के बाद पश्चिमी प्रतिबंधों के चलते उठा रहा है जिसने उसके अंतरिक्ष कार्यक्रम को बड़ा झटका दिया है।

यह भी पढ़ें :- इमरान खान के गले की फांस बना ‘अमेरिकी साजिश’ का लेटर, कोर्ट में याचिका !!

समय से पहले ही क्रैश हो जाएगा ISS?
नासा की योजना स्पेस स्टेशन को 2031 में रिटायर करने की है। लेकिन रूस के सहयोग के बिना यह समय से पहले ही धरती पर क्रैश हो सकता है। रोगोज़िन ने कहा था कि अमेरिका, कनाडा, यूरोपीय संघ और जापान के प्रतिबंधों का उद्देश्य रूसी अर्थव्यवस्था को कमजोर करना, हमारे लोगों को भूख से मारना और हमारे देश को घुटनों पर झुकाना है। यह स्पष्ट है कि वे ऐसा करने में कामयाब नहीं होंगे लेकिन उनके मंसूबे साफ हैं।

Pinterest
LinkedIn
Share
Telegram
WhatsApp