गर्मी में बच्चों को न पहनाएं डाइपर, ऐसे रखें उनका ख्याल !!

नई दिल्ली !!
आज कल की बढ़ती गर्मी के तापमान से बड़े ही नहीं बल्कि बच्चे भी परेशान होते हैं. नवजात शिशु से लेकर तीन-चार साल के छोटे बच्चों को अक्सर मांएं डायपर पहनाकर रखती हैं, कई बार बाहर घूमने जाने, शॉपिंग करने या किसी के घर जाने में भी बच्चों को डायपर पहनाना जरूरी हो जाता है, लेकिन कुछ पेरेंट्स ऐसे भी होते हैं, जो सारा दिन ही बच्चों को डायपर में रखते हैं. गर्मी के मौसम में लगातार डायपर पहनाए रहने से शिशुओं को रैशेज, खुजली, इर्रिटेशन होने लगता है. बच्चे को डाइपर के बिना भी छोड़ें. छोटे बच्चों की स्किन काफी मुलायम और नाज़ुक होती है. इसलिए गर्मी के मौसम में ख़ास कर डाइपर के बिना रखें. यहां देखें डाइपर पहनाकर रखने के नुक्सान|

डायपर रैशेज के अन्य कारण –
इर्रिटेशन, खुजली होना
डायपर को बार-बार खींचना या रगड़ना
बैक्टीरियल या यीस्ट इंफेक्शन
डायपर के कारण एलर्जिक रिएक्शन
बच्चों को नए-नए फूड का सेवन कराना

डायपर रैशेज दूर करने के घरेलू उपाय –

  • मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बच्चे का डायपर अक्सर गीला या गंदा होने के तुरंत बाद बदलें और धायण रह की बच्चे की त्वचा को मॉइस्टराइज़ करें और थोड़ा सूखा रहने दें|

डायपर रैश से बचाने के लिए शिशु के बॉटम को गुनगुने पानी से साफ करें. इसके लिए मुलायम कपड़े का इस्तेमाल करें. रैशेज होने पर बहुत अधिक त्वचा को रगडें नहीं वरना जलन बढ़ सकती है. माइल्ड बेबी सोप से भी बॉटम की साफ-सफाई कर सकते हैं|

  • बच्चे की त्वचा को साफ़ करने के बाद पौडर लगाएं और तुरंत डाइपर न पहनायें. थोड़ा उसे हवा लगने दे|
  • अगर आपके बच्चों को रशेस हो गए हैं तो उनकी स्किन को नारियल तेल से मालश करें , ध्यान रहे हलके हाथों से बच्चे की स्किन में नारियल लगाएं. साथ ही आप एलोवेरा जेल का इस्तेमाल भी कर सकते हैं. बच्चे को आराम मिलेगा|
  • गर्मी के मौसम में आप बच्चे की मालिश करके उसे हवा में या ऐसी में खुला छोड़ दें. धायण रहे की ज्यादा कम टेम्परेचर ऐसी का न हो. ताकि बच्चे को ठंड न लगे|
  • अगर आप कपड़े का डायपर बच्चे को पहनाते हैं, तो थोड़े से पानी में आधा कप व्हाइट सिरका मिलाएं और इस पानी में ही डायपर साफ करें|
  • त्वचा की जलन को रोकने के लिए जब भी डायपर बदलें, तो शिशु की त्वचा पर पेट्रोलियम जेली लगाएं|
  • ध्यान रहे की जब आप बच्चे की त्वचा को साफ़ करलें उसके बाद अपने हाथों को भी साफ़ करें ताकि कोई भी बैक्टीरिया आपके या बच्चे के शरीर में न जा पाएं|
Pinterest
LinkedIn
Share
Telegram
WhatsApp