योगी आदित्यनाथ के गोरक्षपीठ की मिसाल, लाउड स्पीकर पर नया नियम लागू !!

हाईलाइट्स –
गोरखनाथ मंदिर की तरफ से नायाब उदाहरण पेश किया !
मंदिर में शुरू से ही लाउडस्पीकर की आवाज काफी धीमी रहती है !
योगी जी प्रदेश में जो फैसले लेते हैं उसको पहले खुद अमल में लाते हैं !

गोरखपुर !!
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बिना अनुमति के धार्मिक जुलूस नहीं निकालने के साथ ही धर्मस्थलों पर लाउड स्पीकर के इस्तेमाल से दूसरों को असुविधा नहीं होने संबंधी निर्देश जारी किया है. देश के अलग-अलग हिस्सों में त्योहार के दौरान हुई हिंसक घटनाओं के मद्देनजर CM योगी के इस आदेश पर गोरखनाथ मंदिर की तरफ से नायाब उदाहरण पेश किया गया है. मंदिर परिसर में लगे लाउड स्पीकर की आवाज भी धीमी कर दी गई है. साथ ही सड़क की तरफ के लाउडस्पीकर का रुख भी अब मंदिर की तरफ कर दिया गया है|

यह भी पढ़ें :- यूपी में किसानों की चांदी! MSP से अधिक रेट पर हो रही गेहूं की खरीद !!

गोरखपुर में नाथ संप्रदाय के सिद्धपीठ गोरक्षनाथ मंदिर परिसर, मानसरोवर मंदिर परिसर एवं मंगला देवी मंदिर परिसर के लाउड स्पीकर की आवाज बेहद कम कर दी गई है. अब मंदिर परिसर के बाहर आवाज नहीं जाएंगी. गुरुवार से ही यह व्यवस्था लागू कर दी गई है. मंदिर के मैनेजर द्वारिका तिवारी ने बताया कि CM योगी आदित्यनाथ खुद गोरक्षपीठ के महंत हैं. मुख्य मंदिर परिसर में लाउड स्पीकर की आवाज धीमी करने के साथ ही उन्हें सड़क, बाजार और सार्वजनिक स्थलों की तरफ से भी हटा लिया गया है|

मुस्लिम परिवारों ने कहा- पहले से कम थी आवाज !
द्वारिका तिवारी ने बताया कि मंदिर के सभी प्रमुख द्वारों पर लगे हुए लाउड स्पीकर की आवाज अब इतनी धीमी है कि लोगों को भजनों को सुनने के लिए लाउडस्पीकर के सामने खड़ा होना पड़ता है. वहीं मंदिर में बरसों से अपनी दुकानें चला रहे मुस्लिम परिवारों का कहना है कि मंदिर में शुरू से ही लाउडस्पीकर की आवाज काफी धीमी रहती है. इसकी वजह से उनको कभी कोई समस्या नहीं आती है. मुस्लिम दुकानदार मुस्तकीम और इस्तियाक ने कहा कि योगीजी प्रदेश में जो फैसले लेते हैं उसको पहले खुद अमल में लाते हैं. लाउड स्पीकर की आवाज कम करने का फैसला भी इसी का एक हिस्सा है|

यह भी पढ़ें :- आजम खान से सीतापुर जेल में मिले शिवपाल यादव, सवा घंटे चली मुलाकात !!

कम किया गया प्रसारण का भी समय !
गोरक्षपीठ मंदिर में हर रोज सुबह 4:00 बजे से 6:00 बजे तक और शाम को 4:00 से 6:00 बजे तक लाउडस्पीकर के जरिए भजनों और आरती का प्रसारण होता है. गोरक्षपीठ अब लाउडस्पीकर की आवाज कम करने के साथ-साथ प्रसारण समय को भी कम करने की कोशिश कर रहा है. गोरक्षपीठ हमेशा से अपने फैसलों के जरिए लोगों को सुविधा देने की कोशिश करता है. लाउडस्पीकर की आवाज सबसे पहले कम करके एक नजीर स्थापित कर रहा है|

Pinterest
LinkedIn
Share
Telegram
WhatsApp