पंजाब में अलग मोर्चा की तैयारी? प्रशांत किशोर की सिद्धू से मुलाकात ने मचाई हलचल !!

हाईलाइट्स –
सिद्धू ने प्रशांत किशोर के साथ ट्वीट की अपनी तस्वीर !
सिद्धू ने बढ़ाईं राजनीतिक गतिविधियां !
पुरानी शराब, पुराना सोना और पुराने दोस्त सबसे अच्छे होते हैं : सिद्धू !

चंडीगढ़ !!
दिल्ली में नवजोत सिंह सिद्धू के साथ राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर की बैठक ने पंजाब कांग्रेस में हलचल मचा दी है. पार्टी हलकों में इस बात की चर्चा है कि सिद्धू पंजाब के मुद्दों पर लड़ने के लिए विभिन्न दलों के समान विचारधारा वाले नेताओं के साथ एक क्षेत्रीय मोर्चा बनाने पर विचार कर रहे हैं. इससे पहले मंगलवार को सिद्धू ने प्रशांत किशोर के साथ अपनी तस्वीर ट्वीट की. उन्होंने लिखा कि ‘पुराने मित्र पीके के साथ मुलाकात सुखद रही. पुरानी शराब, पुराना सोना और पुराने दोस्त सबसे अच्छे होते हैं. बता दें कि, प्रशांत किशोर ने ‘एम्पावर्ड एक्शन ग्रुप 2024’ के हिस्से के रूप में कांग्रेस में शामिल होने के प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया है|

यह भी पढ़े :- सिद्धू ने फिर से तीखे किए अपने तेवर, निशाने पर कांग्रेस के कई नेता !!

हालांकि क्षेत्रीय मोर्चा बनाने पर सिद्धू द्वारा कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं किया गया था, लेकिन पार्टी के सूत्रों ने कहा कि पीके के साथ उनकी बैठक की व्याख्या 2024 के संसदीय चुनावों को ध्यान में रखते हुए अलग-अलग तरीकों से की जा सकती है. सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि यह सिद्धू को पार्टी में एक महत्वपूर्ण भूमिका में वापस ला सकता है या पंजाब में एक वैकल्पिक राजनीतिक मंच प्रदान करने के लिए उन्हें मजबूत कर सकता है|

पिछले कुछ दिनों में पूर्व PCC प्रमुख पार्टी के पूर्व विधायकों और पार्टी से निकाले गए विधायकों से भी मिलते रहे हैं. कानून व्यवस्था को लेकर पंजाब के राज्यपाल से मुलाकात से लेकर राजपुरा थर्मल प्लांट के बाहर धरना देने तक सिद्धू ने इन दिनों राजनीतिक गतिविधियां तेज कर दी हैं. अपने उत्तराधिकारी राजा वड़िंग के स्थापना समारोह में अतिथि उपस्थिति को छोड़कर सिद्धू को नए PCC प्रमुख के साथ मंच पर नहीं देखा गया है. विश्लेषकों का कहना है कि दिल्ली से नियंत्रित होने के कारण CM भगवंत मान के नेतृत्व वाली AAP सरकार खराब दौर से गुजर सकती है. जिससे राज्य की राजनीति में एक क्षेत्रीय मोर्चे के लिए जगह बन सकती है|

यह भी पढ़े :- पंजाब : ड्यूटी के दौरान मौत होने पर, पुलिस कर्मचारियों के परिवार को मिलेगा 1 करोड़ का मुआवजा !!

अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं की जाएगी !
दूसरी ओर पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए पूर्व PCC प्रमुख सुनील जाखड़ के दो साल के निलंबन की सिफारिश करने वाली AICC की अनुशासन समिति के फैसले के बाद पार्टी नेतृत्व वरिष्ठ नेताओं द्वारा सार्वजनिक बयानों को करीब से देख रहा है. वड़िंग के समारोह में मौजूद पंजाब मामलों के प्रभारी हरीश चौधरी ने सिद्धू का नाम लिए बिना कहा था कि किसी को भी पार्टी लाइन पार करने या समानांतर गतिविधियों को चलाने की अनुमति नहीं दी जाएगी. उन्होंने कहा था कि स्थिति कोई भी हो, सभी को लाइन में लगना पड़ता है. अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं की जाएगी|

Pinterest
LinkedIn
Share
Telegram
WhatsApp