पंजाब : गेहूं की कम पैदावार ने बढ़ाए सूखे चारे के दाम, चार गुना अधिक दामों में बिक रही तूड़ी !!

हाईलाइट्स –
कई राज्यों में गेहूं का रकबा कुछ हद तक कम हुआ !
मार्च में उच्च तापमान से गेहूं की पैदावार भी प्रभावित हुई !
400 से 800 रुपये प्रति क्विंटल की दर से बिक रही है तूड़ी !

चंडीगढ़ !!
पंजाब में गेहूं की फसल के अवशषों से तैयार होने वाले सूखे चारे यानी तूड़ी के दाम बीते साल के मुकाबले चार गुना अधिक हैं. विशेषज्ञों की मानें तो पिछले साल दिसंबर में जब खबरें आईं कि 2021-22 के रबी सीजन में कई राज्यों में गेहूं का रकबा कुछ हद तक कम हो गया है, तो कई बड़े व्यापारियों ने सूखे चारे का भंडारण करना शुरू कर दिया जिससे दरों में भी उछाल आना शुरू हो गया. इसके अलावा मार्च में उच्च तापमान से गेहूं की पैदावार भी प्रभावित हुई, परिणामस्वरूप अनाज सिकुड़ गया और गेहूं के भूसे यानी तूड़ी का वजन भी कम हो गया|

प्रत्येक किसान के खेतों में इस बार तूड़ी का उत्पादन 15 से 20 फीसदी कम हुआ है. इस वजह से इसकी मांग और कीमतें दोनों बढ़ी हैं. गेहूं के ठूंठ से बनने वाली ‘तूड़ी’ अपने पोषण गुणों के कारण मवेशियों के लिए सबसे अच्छा सूखा चारा माना जाता है. इसलिए जब इस साल गेहूं की पैदावार कम हुई है, तो इसकी कीमतों की दर बहुत अधिक है. किसान इसे बेचकर भारी मुनाफा कमा सकते हैं. लेकिन इसके बावजूद पंजाब में 1 अप्रैल से 29 अप्रैल तक 3,895 खेत में आग लगने की घटनाएं हुई हैं. फिर सवाल उठता है कि किसान अपनी फसल के अवशेष खेतों में ही क्यों जला रहे हैं|

यह भी पढ़ें :- पंजाब में अलग मोर्चा की तैयारी? प्रशांत किशोर की सिद्धू से मुलाकात ने मचाई हलचल !!

रिपोर्ट्स के मुताबिक, अप्रैल में शुरू हुई गेहूं की कटाई से पहले तूड़ी का भाव 950 रुपये से 1100 रुपये प्रति क्विंटल था, क्योंकि किसानों ने पिछले साल का संग्रहित चारा बेचा था. अब जब गेहूं की कटाई के बाद तूड़ी का सीजन शुरू हुआ तो रेट कम नहीं हुए हैं और यह अभी भी राज्य के विभिन्न हिस्सों में 400 रुपये से 800 रुपये प्रति क्विंटल की दर से बिक रही है. राजस्थान जैसे पड़ोसी राज्यों में तूड़ी का भाव 950 रुपये प्रति क्विंटल है. हालांकि सीजन के दौरान इसकी दरें 200 रुपये से 300 रुपये प्रति क्विंटल के बीच रहती थी|

पंजाब जो लगभग 35 लाख हेक्टेयर भूमि पर गेहूं की फसल बोता है, सामान्य फसल के मौसम में लगभग 20 मिलियन टन तूड़ी का उत्पादन करता है, लेकिन इस बार यह उत्पादन लगभग 14 मिलियन टन होगा. यदि तूड़ी की दर 1,000 रुपये प्रति क्विंटल तक पहुंच जाती है तो इसकी अनुमानित कीमत 14,000 करोड़ रुपये हो सकती है. जिले के रज्जियां गांव के एक किसान ने रिपोर्ट में कहा कि अगर पराली भारी है तो हम एक एकड़ से 8 क्विंटल तूड़ी की तीन ट्रॉली बना सकते हैं, लेकिन मौजूदा स्थिति में प्रति एकड़ केवल दो ट्रॉली या उससे थोड़ा अधिक चारा उत्पादन हुआ है. यदि चारे की दर 1,000 रुपये से 1,100 रुपये प्रति एकड़ तक बढ़ जाती है तो चारे की दो ट्रॉली प्राप्त करने वाले किसान को चारा बनाने वाले को 1200 रुपये प्रति ट्रॉली देना पड़ता है, जो चारा बनाने के लिए अपनी मशीनरी और ट्रैक्टर का उपयोग करता है. किसान 16,000 रुपये से 17,000 रुपये प्रति एकड़ तूड़ी बेच सकता है और चारा निर्माता को भुगतान करने के बाद 13,500 रुपये से 14,500 रुपये प्रति एकड़ कमा सकता है|

पठानकोट जिले के कृषि अधिकारी डॉ अमरीक सिंह ने बताया कि किसान वास्तव में गेहूं की पराली को नहीं बल्कि इसकी जड़ों के ऊपरी हिस्से को जला रहे हैं, क्योंकि चारा बनाने के बाद जड़ों के ऊपरी हिस्से के कुछ सेंटीमीटर छोटे रह जाते हैं और किसान उस हिस्से को आग भी लगा देते हैं जिसे बिना किसी नुकसान के आसानी से टाला जा सकता है. उन्होंने कहा कि वे यह महसूस नहीं कर रहे हैं कि वे मिट्टी के अनुकूल कीड़े, कार्बनिक पदार्थ जला रहे हैं, और भारी मात्रा में कार्बन डाइऑक्साइड, कार्बन मोनोऑक्साइड, ब्लैक कार्बन पैदा करने के अलावा नाइट्रोजन, डीएपी, पोटेशियम का काफी नुकसान कर रहे हैं, जो सभी पर्यावरण प्रदूषण पैदा करते हैं. उन्होंने कहा कि यह फसलों की उत्पादकता और मिट्टी की उर्वरता को भी प्रभावित करता है|

यह भी पढ़ें :- सिद्धू ने फिर से तीखे किए अपने तेवर, निशाने पर कांग्रेस के कई नेता !!

किसानों ने कहा कि, वे अवशेषों को जलाते हैं क्योंकि उन्हें अगली धान की फसल उगाने के लिए साफ खेत की जरूरत होती है. फिर वे एक बार खेत की जुताई करते हैं, जिसकी लागत उन्हें 1000 रुपये से 1200 रुपये प्रति एकड़ होती है. खेत की पोखर के बाद वे धान की नर्सरी की रोपाई करते हैं। उन्होंने कहा कि बिना जलाए खेत की जुताई के लिए अधिक संचालन की आवश्यकता होती है और हर ऑपरेशन में 1,000 रुपये से 1200 रुपये का खर्च आता है जो कि बहुसंख्यक किसानों द्वारा वहन नहीं किया जा सकता है|

चारा बनाने के बाद बचे हुए जड़ों को नहीं जलाने वाले किसानों ने कहा कि वे चारा बनाने के बाद एक-दो बार खेत की जुताई करते हैं. और जून में धान की बुवाई के दौरान, वे धान की नर्सरी को खेत में तीन दिन की पोखर के बाद रोपते हैं क्योंकि उन तीन दिनों में गेहूं की बची हुई जड़ें मिट्टी में जम जाती हैं. जब नर्सरी की रोपाई की जाती है, तो यह न तो तैरती है और न ही नर्सरी से टकराती है. अपने खेतों को नहीं जलाने वाले किसान सतनाम सिंह ने कहा कि जो लोग जड़ों के ऊपरी हिस्से को जलाते हैं उन्हें धान की बुवाई के समय समस्या का सामना करना पड़ता है क्योंकि जड़ों के अवशेष पोखर के दौरान निकल आते हैं और वे अपने हल्के वजन के कारण तैरने लगते हैं. नर्सरी को बचाने के लिए, किसानों को श्रम लगाकर उन्हें साफ करने की आवश्यकता होती है जो समय लेने वाली और महंगी दोनों होती है|

Pinterest
LinkedIn
Share
Telegram
WhatsApp