अभी और झुलसाएगी गर्मी, 50 डिग्री के पार पहुंचेगा पारा !!

हाईलाइट्स –
इस वर्ष भीषण गर्मी पड़ने की चेतावनी !
अप्रैल देश का अब तक का चौथा सबसे गर्म महीना रहा !
उत्तर पश्चिम और मध्य भारत में 2 मई तक चलेगी लू !

लखनऊ !!
भारतीय मौसम विभाग ने इस वर्ष भीषण गर्मी पड़ने की चेतावनी दी है. भारतीय मौसम विभाग के मुताबिक इस वर्ष पारा 50 डिग्री सेल्सियस को छू सकता है. दरअसल, इस वक्त भारत के प्रमुख हिस्सों में भीषण गर्मी जारी है. मई साल का सबसे गर्म महीना होता है. इसलिए पश्चिमी राजस्थान में पारा 50 डिग्री सेल्सियस को छू सकता है. गौरतलब है कि, इस वर्ष अप्रैल देश का अब तक का चौथा सबसे गर्म महीना रहा. ये जानकारी भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के महानिदेशक, डॉ. एम. महापात्रा ने दी है. गौरतलब है कि राजस्थान में अब तक का सबसे अधिकतम तापमान 52.6 डिग्री सेल्सियस 1956 में दर्ज किया गया था|

यह भी पढ़ें :- राहत : मौसम लेगा करवट, आंधी-बारिश से भीषण गर्मी का प्रकोप होगा कम !!

भारतीय मौसम विभाग के अनुसार, इस वर्ष पश्चिम-मध्य और उत्तर-पश्चिम भारत के अधिकांश हिस्सों में सामान्य से अधिक तापमान रहने का अनुमान है. इसके साथ ही पूर्वोत्तर भारत के उत्तरी हिस्सों में दिन औसत से अधिक गर्म रहने की आशंका जताई गई है. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के महानिदेशक, डॉ. एम. महापात्र ने बताया कि अप्रैल 2022 में उत्तर पश्चिम और मध्य भारत में औसत अधिकतम तापमान पिछले 122 वर्षों में क्रमशः 35.90 डिग्री सेल्सियस और 37.78 डिग्री सेल्सियस के साथ सबसे अधिक दर्ज किया गया है. कुछ स्थानों पर तो पारा 46 डिग्री सेल्सियस को पार कर गया. उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद, झांसी और लखनऊ में अप्रैल का सर्वकालिक उच्च तापमान क्रमश: 46.8 डिग्री सेल्सियस, 46.2 डिग्री सेल्सियस और 45.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है. वहीं, हरियाणा के गुरुग्राम और मध्य प्रदेश के सतना में भी अप्रैल महीने में अब तक का उच्च तापमान 45.9 डिग्री सेल्सियस और 45.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. इसके साथ ही IMD ने कहा है कि, उत्तर पश्चिम और मध्य भारत में 2 मई तक लू चलेगी. इस बीच हरियाणा, पंजाब, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश, झारखंड और महाराष्ट्र के विदर्भ क्षेत्र के लिए IMD शनिवार को ‘ऑरेंज अलर्ट’ जारी किया|

मौसम विभाग के मुताबिक, दिल्ली में रविवार को आंशिक रूप से बादल छाए रहने के साथ ही हल्की बारिश और धूल भरी आंधी के साथ 50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं. मौसम में आए इस बदलाव से लोगों को अस्थायी राहत मिलने की संभावना जताई गई है. दरअसल, इन क्षेत्रों में पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव में सोमवार से लू के थमने की उम्मीद है, जिसके 1 मई की रात से उत्तर पश्चिम भारत को प्रभावित करने की संभावना है|

यह भी पढ़ें :- दिल्ली में जबरदस्त गर्मी, 72 साल में अप्रैल इतना गर्म !!

हालांकि, महापात्र ने कहा कि मई में कुछ राहत मिल सकती है, क्योंकि भारत के अधिकांश हिस्सों में सामान्य से अधिक बारिश होने की संभावना है. वरिष्ठ वैज्ञानिक आर के जेनामणि के मुताबिक राजस्थान, दिल्ली, पंजाब और हरियाणा में 2 मई से 4 मई के बीच हल्की बारिश और गरज के साथ बारिश हो सकती है. अधिकतम तापमान 36 डिग्री से 39 डिग्री सेल्सियस के बीच रहेगा. IMD ने पश्चिम बंगाल भारत में 30 अप्रैल से 4 मई तक उत्तर प्रदेश से पूर्वी राज्य के गंगा के हिस्सों तक हवा के रुकने के कारण बंगाल की खाड़ी से नमी के आने की भविष्यवाणी की है|

Pinterest
LinkedIn
Share
Telegram
WhatsApp