दिल्ली : शाहीन बाग में अतिक्रमण हटाने को लेकर हाई वोल्टेज ड्रामा, हिरासत में महिलाएं !!

हाईलाइट्स –
साउथ MCD अतिक्रमण के खिलाफ हो रही है कार्रवाई !
फोर्स की कमी के चलते नहीं हो पा रही थी कार्रवाई !
CRPF के 100 जवान भेजे गए !

नई दिल्ली !!
दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में अतिक्रमण हटाने का काम शुरू हो गया है. इससे पहले वहां हंगामा भी देखने को मिला. कुछ स्थानीय नेता और लोग वहां MCD के बुलडोजर के आगे बैठ गए हैं और MCD और भाजपा के खिलाफ जमकर नारेबाजी की, जिनको बाद में हटा लिया गया और कुछ को हिरासत में भी लिया गया. फिलहाल शाहीन बाग से अतिक्रमण हटाने का मामला सुप्रीम कोर्ट भी पहुंच गया है. शाहीन बाग की ताजा स्थिति को देखते हुए अतिरिक्त सुरक्षा बल वहां तैनात किया गया है. पुलिस की मदद के लिए CRPF के 100 जवान वहां भेजे गए हैं|

फिलहाल एक बिल्डिंग के सामने मौजूद लोहे की रॉड, पिलर्स को हटाया जा रहा है. ये रॉड रिनोवेशन के काम के लिए लगाई गई थी. इनको हटाने के लिए बुलडोजर का इस्तेमाल नहीं किया गया क्योंकि वहां काफी भीड़ है. उनको मजदूर और आम लोग मिलकर हटा रहे हैं. ताजा जानकारी मिली है कि शाहीन बाग के वर्तमान हालत को देखते हुए CRPF की एक अतिरिक्त कंपनी दिल्ली पुलिस के साथ लॉ एंड ऑर्डर के लिए लगाई गई है. इसमें करीब 100 जवान CRPF के शामिल हैं|

यह भी पढ़ें :- दिल्ली : बग्गा की अगुवाई में केजरीवाल के आवास पर प्रदर्शन, कई भाजपा कार्यकर्ता हिरासत में !!

शाहीन बाग में हंगामे के बीच मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है. बुलडोजर की कार्रवाई के खिलाफ यह याचिका दायर की गई है. शाहीन बाग में बुलडोजर फिलहाल आगे की तरफ बढ़ रहा है. बुलडोजर का विरोध कर रहे लोगों को साइड किया गया है. विरोध कर रही महिलाओं को हिरासत में लिया गया है. सुरक्षा बल के जवान अब बसों में शाहीन बाग पहुंचने लगे हैं. उनके पास आंसू गैस के गोले आदि भी हैं|

इससे पहले जानकारी आई थी कि, दिल्ली पुलिस का कहना है आज MCD को पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था के लिए फोर्स नहीं दी जा सकती. दिल्ली पुलिस का कहना था कि साउथ ईस्ट जिला, जिसमें शाहीन बाग आता है वहां कई और संवेदनशील प्रोग्राम हैं और वहां फोर्स लगाई गई है, इसके चलते अतिक्रमण हटाने के लिए फोर्स नहीं मिल सकती. लेकिन अब ऐसा नहीं है, दिल्ली पुलिस ने फोर्स देने की बात कही है. पहले भी पुलिस सुरक्षा नहीं मिलने की वजह से अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई पर 8 मई तक रोक लगा दी गई थी|

यह भी पढ़ें :- शाहीन बाग में अवैध निर्माण हटाने के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंची CPM !!

आपको बता दें कि, साउथ MCD ने पहले एक पूरा रोस्टर तैयार किया था. इसमें बताया गया था कि साउथ दिल्ली के किस इलाके में कब अतिक्रमण हटाने के लिए बुलडोजर चलेगा. लेकिन इसके हिसाब से सिर्फ पहले ही दिन कार्रवाई हो पाई थी. जहांगीरपुरी में हनुमान जयंती के दिन हुई हिंसा के बाद वहां भी बुलडोजर से अतिक्रमण हटाया गया था. हालांकि, तब कार्रवाई बहुत ज्यादा लंबी नहीं चल सकी थी क्योंकि इसपर सुप्रीम कोर्ट का निर्देश आ गया था. कोर्ट ने फिलहाल जहांगीरपुरी में अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई पर स्टे लगाया है|

Pinterest
LinkedIn
Share
Telegram
WhatsApp