कांग्रेस हाईकमान से तनाव के बीच मान से मिलेंगे सिद्धू, आग में घी डालेगी बैठक?

हाईलाइट्स –
पहले से ही अनुशासनात्मक कार्रवाई का सामना कर रहे है सिद्धू !
चौधरी ने पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को लिखा पत्र !

चंडीगढ़ !!
पंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू सोमवार को मुख्यमंत्री भगवंत मान से मिलने के लिए तैयार हैं। उन्होंने खुद ही मुलाकात की घोषणा ट्वीट के जरिए की थी। खास बात है कि दोनों नेताओं के बीच यह मुलाकात ऐसे समय पर होने जा रही है जब सिद्धू कांग्रेस आलाकमान की तरफ से नाराजगी और पार्टी नेताओं के विरोध का सामना कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें :- प्रियंका गांधी के साथ आजम खान का पोस्टर, लिखा- आइये कांग्रेस में आपका स्वागत है !!

रिपोर्ट के अनुसार, सिद्धू पहले ही कथित पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते संभावित रूप से अनुशासनात्मक कार्रवाई का सामना कर रहे हैं। इधर, पंजाब मामलों के प्रभारी हरीश चौधरी ने कमेटी से उनके खिलाफ कारण बताओ नोटिस जारी करने की सिफारिश की है। चौधरी ने पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखा है कि उन्होंने पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष अमरिंदर सिंह राजा वडिंग की तरफ से लिखित नोट मिला है।

चौधरी ने बताया है कि, वडिंग ने अपने पत्र में इस बात पर जोर दिया है कि पूर्व क्रिकेटर और TV हस्ती को खुद को ‘पार्टी से ऊपर’ नहीं दिखाना चाहिए। इससे पहले ‘पार्टी विरोधी टिप्पणियों’ के चलते कांग्रेस ने पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ को भी सभी पदों से हटा दिया था। खास बात है कि सिद्धू को लेकर शिकायत AICC की अनुशासन समिति को भेजी गई है, लेकिन सभी सदस्यों के उपलब्ध नहीं होने के चलते इसे रद्द कर दिया गया था। रिपोर्ट में कांग्रेस सूत्रों के हवाले से लिखा है कि सिद्धू ने अपनी बैठक को लेकर वडिंग को जानकारी नहीं दी थी। सूत्रों ने CM मान के साथ कांग्रेस नेता की इस बैठक पर सवाल उठाए हैं और दावा किया है कि यह प्रदेश के नेतृत्व को कमजोर कर रही है।

यह भी पढ़ें :- चंद्रशेखर की TRS से किसी भी कीमत पर नहीं मिलाएंगे हाथ : राहुल गांधी !!

हाल ही में एक ट्वीट में सिद्धू ने मान को ईमानदार बताया था। वहीं, इसके तुरंत बाद उन्होंने ड्रग पैडलर्स का एक वीडियो साझा कर राज्य सरकार पर सवाल उठाए थे। पार्टी के एक नेता ने कहा, ‘ये सब माइंड गेम्स हैं। पार्टी को कन्फ्यूज किया गया है। शायद यह उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई से पहले आलाकमान पर दबाव डालने का प्रयास है।’ इसके अलावा हाल ही में सिद्धू ने चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से भी दिल्ली में मुलाकात की थी। इसके बाद अटकलें लगाई जाने लगी थी कि वह किशोर के साथ सियासी गठबंधन में शामिल हो सकते हैं।

Pinterest
LinkedIn
Share
Telegram
WhatsApp