आजम खान मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट की नाराजगी के बाद अखिलेश और मायावती ने भाजपा को घेरा !!

हाईलाइट्स –
भाजपा अपने खिलाफ मुखर नेताओं पर देशद्रोह जैसी धाराएं लगाती है : अखिलेश यादव !
यूपी सहित तमाम भाजपा शासित राज्यों में दलितों, आदिवासियों और मुस्लिमों पर जुल्म : मायावती !

लखनऊ/आजमगढ़ !!
अखिलेश यादव ने आज आजम खान के मुद्दे पर भाजपा सरकार को एक बार फिर से निशाने पर लिया. उन्होंने कहा कि, आजम खां पर सरकार कानूनी शिकंजा कस रही है, उधर बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी आज आजम खान की रिहाई न होने पर भाजपा पर निशाना साधा उन्होंने कहा, यूपी सहित तमाम भाजपा शासित राज्यों में दलितों और मुस्लिमों पर जुल्म हो रहा है बसपा सुप्रीमो मायावती ने गुरुवार को ट्वीट कर भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि यूपी सहित तमाम भाजपा शासित राज्यों में दलितों, आदिवासियों और मुस्लिमों जुल्म और ज्यादती का शिकार बनाकर उन्हें परेशान किया जा रहा है|

अखिलेश यादव ने आजम खान मुद्दे पर भाजपा सरकार को एक बार फिर निशाने लेते हुए कहा कि, आजम खां पर सरकार कानूनी शिकंजा कस रही है, ताकि वह बाहर न निकल सकें समाजवादी पार्टी के विधायक व पूर्व मंत्री दारा सिंह चौहान की मां की तेरहवीं कार्यक्रम में श्रद्धांजलि देने समाजवादी पार्टी के मुखिया आजमगढ़ पहुंचे थे|

यह भी पढ़ें :- आजम परिवार की मुश्किलें फिर बढ़ीं, बेटे और पत्नी के नाम एक और नया वारंट !!

अखिलेश यादव ने आगे कहा कि, यूपी में भाजपा सरकार का बुलडोजर मुसलमान और न्याय मांगने वालों पर ही चल रहा है. उन्होंने कहा कि आजम खां पर सरकार ने इतना कानूनी शिकंजा कसा है कि वह बाहर न निकल पाये, लेकिन समाजवादियों को उम्मीद है कि उनके साथ न्याय होगा. भाजपा की सरकार जब से आई है और जो लोग उनके खिलाफ हैं ऐसे नेताओं के खिलाफ देशद्रोह जैसी संगीन धाराएं लगाई हैं|

अखिलेश ने कहा कि बुलडोजर प्रदेश में मुसलमान और जो न्याय मांगने जा रहे हैं उसके घरों पर ही चल रहा है. आज अगर राशन को सरकार हटा ले तो देश के हालात श्रीलंका जैसे हो जायेंगे. सरकार के पास अब बजट का अभाव है, इसलिए वह किसान सम्मान निधि और राशन वितरण को बंद करने के बहाने ढूंढ़ रही है आजमगढ़ के मुबारकपुर के अशरफिया यूनिर्वसिटी जो कि अंतरराष्ट्रीय युनिर्वसिटी है उसकी बाउंड्री पर बुलडोजर चल रहा है, जबकि वह जमाने से है. उन्होंने कहा कि सरकार भूल गई है कि देश कानून व संविधान से चलेगा न कि बुलडोजर से|

सपा मुखिया ने कहा कि, आजम के बाद अब सुभासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर को घेरा जा रहा है. नारे लगाये जा रहे हैं. अगर आप राजनेता को घेरेंगे, किसी के घर नहीं जाने देंगे तो लोकतंत्र कहां बचा. उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार महंगाई को रोकने में नाकाम हो गई है. देश में बेरोजगारी है और यदि राशन बंद कर दिया गया तो श्रीलंका जैसे हालात भारत के हो जाएंगे|

यह भी पढ़ें :- आजम खान मामले में सुप्रीम कोर्ट फिर नाराज, पूछा- एक ही व्यक्ति पर 89 मुकदमे कैसे?

उधर आज लखनऊ में बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी आजम खान की रिहाई न होने पर भाजपा पर निशाना साधा बसपा सुप्रीमो मायावती ने गुरुवार को ट्वीट कर बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि यूपी सहित तमाम भाजपा शासित राज्यों में दलितों, आदिवासियों और मुस्लिमों जुल्म और ज्यादती का शिकार बनाकर उन्हें परेशान किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि वरिष्ठ विधायक आजम खान को करीब सवा दो साल से जेल में बंद रखना लोगों की नजर में न्याय का गला घोटना है|

मायावती ने गुरुवार को एक के बाद एक तीन ट्वीट किए. उन्होंने लिखा, “यूपी व अन्य भाजपा शासित राज्यों में भी, कांग्रेस की ही तरह, जिस प्रकार से टारगेट करके गरीबों, दलितों, अदिवासियों एवं मुस्लिमों को जुल्म-ज्यादती व भय आदि का शिकार बनाकर उन्हें परेशान किया जा रहा है यह अति-दुःखद, जबकि दूसरों के मामलों में इनकी कृपादृष्टि जारी है. इसी क्रम में यूपी सरकार द्वारा अपने विरोधियों पर लगातार द्वेषपूर्ण व आतंकित कार्यवाही तथा वरिष्ठ विधायक मोहम्म्द आज़म खान को करीब सवा दो वर्षों से जेल में बन्द रखने का मामला काफी चर्चाओं में है, जो लोगों की नज़र में न्याय का गला घोंटना नहीं तो और क्या है? साथ ही, देश के कई राज्यों में जिस प्रकार से दुर्भावना व द्वेषपूर्ण रवैया अपनाकर प्रवासियों व मेहनतकश समाज के लोगों को अतिक्रमण के नाम पर भय व आतंक का शिकार बनाकर, उनकी रोजी-रोटी छीनी जा रही है, वह अनेकों सवाल खड़े करता है, जो अति-चिन्तनीय भी है”|

यह भी पढ़ें :- आजम खान की रिहाई में एक और रुकावट, सीतापुर जेल पहुंचा नया वारंट !!

गौरतलब है कि आजम खान के ऊपर 88 मामले दर्ज हैं, जिनमे से 87 मामले में उन्हें जमानत मिल चुकी है. लेकिन रामपुर पब्लिक स्कूल की मान्यता को लेकर एक अन्य मामले में भी उनका नाम शामिल किया गया है, जिसमें उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी है. इस मामले में जमानत मिलने के बाद ही उनकी रिहाई संभव है. आपको बता दें कि, आजम खान की रिहाई को लेकर अब सियासत गरमाने लगी है इस मामले में सुप्रीम कोर्ट भी बीते दिनों दो बार नाराजगी जता चुका है|

Pinterest
LinkedIn
Share
Telegram
WhatsApp