मुख्यमंत्री का आदेश- स्कूलों में लगाए जाएं धार्मिक स्थलों से उतारे गए लाउडस्पीकर !!

हाइलाइट्स –
हमने लाउडस्पीकरों को हटाने में सफलता पाई : CM योगी !
आवश्यकतानुसार निकटस्थ स्कूलों को उपलब्ध कराने में सहयोग करें !
अवैध टैक्सी स्टैंड की समस्या का स्थाई समाधान करें स्थानीय प्रशासन !

लखनऊ !!
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा संवाद के माध्यम से ही हमने अनावश्यक रूप से लगाये गए लाउडस्पीकरों को हटाने में सफलता पाई है. लाउडस्पीकर की आवाज संबंधित परिसर के भीतर ही रहेगी, सौहार्द के साथ हमने यह करके उदाहरण प्रस्तुत किया है. यह स्थिति आगे भी बनी रहे. यदि फिर कहीं अनावश्यक लाउडस्पीकर लगाए जाने/तेज आवाज में बजने की शिकायत प्राप्त हुई तो सम्बंधित सर्किल के पुलिस अधिकारी, डिप्टी कलेक्टर व अन्य अधिकारियों की जवाबदेही तय की जाएगी. संवाद के माध्यम से विभिन्न जनपदों में जो लाउडस्पीकर लोगों ने हटाये हैं, उन्हें आवश्यकतानुसार निकटस्थ स्कूलों को उपलब्ध कराने में सहयोग करें|

CM योगी आदित्यनाथ ने राज्य में जगह-जगह पर संचालित किए जा रहे अवैध वाहन स्टैंडों को अगले 48 घंटों के भीतर समाप्त करने के सख्त निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि स्थानीय प्रशासन की जिम्मेदारी है कि वह अवैध टैक्सी स्टैंड की समस्या का स्थाई समाधान करें. वरना जवाबदेही तय की जाएगी. उन्होंने कहा कि स्टैंडों के लिए जगह तय की जाए और ऐसे स्टंट नियमानुसार संचालित किए जाएं. सड़कों पर पार्किंग नहीं होने पाए. मुख्यमंत्री ने प्रति वर्ष सड़क दुर्घटनाओं में बड़ी संख्या में लोगों के हताहत होने पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि इनसे बचने के लिए अतिरिक्त सावधानी बरतनी होगी|

यह भी पढ़ें :- प्रयागराज में कोरोनाकाल जैसी भयावह तस्वीर, रोक के बावजूद नदी किनारे दफनाई जा रही लाशें !!

उन्होंने प्राथमिक और माध्यमिक स्कूलों में बच्चों को यातायात नियमों का पालन सिखाने के लिए विशेष प्रयास किए जाने की जरूरत पर जोर देते हुए कहा कि यातायात नियमों के संबंध में विभिन्न विद्यालयों के प्रधानाचार्य तथा विश्वविद्यालय के प्रतिनिधियों का प्रशिक्षण कराया जाए. अगले दो दिनों के भीतर अभिभावकों के साथ भी विद्यालयों में बैठक हो. CM योगी ने बुधवार को यहां अपने सरकारी आवास पर वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से सड़क सुरक्षा के सम्बन्ध में समीक्षा बैठक की. इसमें प्रदेश के सभी मंडलायुक्तों, जिलाधिकारियों तथा वरिष्ठ क्षेत्रीय, परिक्षेत्रीय तथा जिला पुलिस प्रमुखों के साथ-साथ विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल हुए|

Pinterest
LinkedIn
Share
Telegram
WhatsApp