आखिरकार आजम खान को जमानत मिल ही गई, कल होंगे जेल से रिहा !!

हाइलाइट्स –
आजम खान के जेल से बाहर आने का रास्ता साफ !
अंतरिम जमानत की शर्तें तय करेगा ट्रायल कोर्ट !

नई दिल्ली/सीतापुर !!
समाजवादी पार्टी (सपा) नेता और पूर्व मंत्री आजम खान को सुप्रीम कोर्ट से अंतरिम जमानत मिल गई है. गुरुवार को अपना फैसला सुनाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आजम खान की जमानत की शर्तें ट्रायल कोर्ट तय करेगा और सामान्य जमानत के लिए आजम को समुचित और सक्षम अदालत में दो हफ्ते के भीतर अर्जी लगानी होगी|

सुप्रीम कोर्ट ने साफ कहा कि ट्रायल कोर्ट से रेगुलर बेल मिलने तक अंतरिम आदेश लागू रहेगा. गौरतलब है कि 80 से अधिक मामलों में आजम खान पिछले 26 महीने से सीतापुर जेल में बंद हैं. वह एक केस में जमानत लेते तो दूसरा केस दायर हो जाता. इसके बाद आजम खान ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था, जहां मंगलवार को सुनवाई हुई थी|

यह भी पढ़ें :- आजम खान मामले में सुप्रीम कोर्ट फिर नाराज, पूछा- एक ही व्यक्ति पर 89 मुकदमे कैसे?

रिहाई आदेश की हार्ड कॉपी विशेष वाहक के जरिए भेजी जाएगी. सीतापुर जेल में जब रिहाई परवाना पहुंचेगा तभी आजम खान जेल से रिहा होंगे. रिहाई आदेश जेल बंद होने से पहले शाम 5:30 बजे से पहले पहुंचेगी तभी आजम खान उस दिन जेल से रिहा होंगे. अगर लेट होता है तो दूसरे दिन यानी शनिवार को रिहा हो पाएंगे|

यूपी सरकार ने किया था जमानत का विरोध !
मंगलवार को सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट में असिस्टेंट सॉलिसीटर जनरल राजू ने आजम खान की जमानत का विरोध किया था. उन्होंने कहा था, ‘आजम खान ने ये बयान दिया था कि जिस एसडीएम ने मेरे खिलाफ मुकदमे लिखवाए, उसको मैं देख लूंगा. मेरी सरकार आने दो बस’|

यह भी पढ़ें :- यूपी DGP को हटाने पर अखिलेश यादव ने पूछा- नियुक्ति के समय क्यों नहीं जांची थी योग्यता !!

इस पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि आप ऐसा नहीं कर सकते राजू. बेल अलग मामला है और इसके बाद जेल अलग मामला. कोर्ट ने ये भी पूछा कि क्या उन मामलों में जमानत दी गई थी? इस सवाल पर असिस्टेंट सॉलिसीटर जनरल ने कहा कि हां, लेकिन वह आदतन अपराधी है. जमानत नहीं दिए जाने का ये एक आधार है|

कपिल सिब्बल ने रखी थी ये दलीलें !
असिस्टेंट सॉलिसीटर जनरल ने ये आरोप भी लगाया था कि, आजम खान ने पूछताछ करने गए जांच अधिकारी को भी धमकी दी थी. आजम खान की ओर से पेश हुए वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि इस मामले में एक ही शिकायतकर्ता ने पूरक शिकायत की है. आगे की जांच के लिए कोर्ट की ओर से मंजूरी नहीं दी गई है. वे खुद ही जांच कर रहे हैं जबकि ये केस 13 साल बाद दर्ज हुआ है. ये क्या हो रहा है? आजम खान के वकील ने ये भी कहा कि हम स्कूल नहीं चलाते. हमने कुछ भी नहीं किया है|

सरकार के वकील ने कहा- आजम खान भू-माफिया हैं !
आजम खान को किसी भी तरह की राहत का विरोध करते हुए असिस्टेंट सॉलिसीटर जनरल ने कहा था कि करीब 19 मामले दर्ज हैं. उनकी ओर से ये याचिका केवल सहानुभूति के लिए दायर की गई है. वे भूमाफिया हैं. नया मामला फर्जी दस्तावेज से स्कूल को अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी कराने का है. केस दर्ज कराने वाले अधिकारी को धमकाने का भी मामला है|

Pinterest
LinkedIn
Share
Telegram
WhatsApp