टिकैत से अलग होकर मैदान में उतरा नया किसान संगठन, CM योगी से की ये मांग !!

हाइलाइट्स –
राकेश टिकैत पर हमलावर रहे राजेश सिंह चौहान !
कौन सीनियर, किसान करेंगे इसका निर्णय !
भाजपा के खिलाफ प्रदेश और देश में करेंगे बहुत बड़ा आंदोलन !

फतेहपुर !!
राकेश टिकैत की भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) से अलग होकर राजेश सिंह चौहान ने भारतीय किसान यूनियन (अराजनैतिक) के गठन का ऐलान किया था. अब ये नया किसान संगठन एक्शन में आता नजर आ रहा है. बीकेयू अराजनैतिक के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजेश सिंह चौहान ने योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली यूपी की सरकार को विधानसभा चुनाव के दौरान किसानों से किए वादे पूरे करने की चेतावनी दी है|

फतेहपुर में पत्रकारों से बात करते हुए राजेश सिंह चौहान ने कहा कि महेंद्र सिंह टिकैत के सिद्धांतों पर दूसरा संगठन बना है जो किसानों के हित के लिए लड़ाई लड़ेगा. उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने यूपी चुनाव के समय अपने घोषणा पत्र में जो वादे किए थे, उनको जल्द पूरा करें|

यह भी पढ़ें :- साधु संत और भाजपा के भारी विरोध के बीच राज ठाकरे का अयोध्या दौरा रद्द !!

राजेश सिंह चौहान ने कहा कि भाजपा के चुनाव घोषणा पत्र में किसानों को लेकर किए गए वादों को पूरा कराने के लिए जल्द ही मुख्यमंत्री से मिलूंगा. उन्होंने साथ ही सरकार को ये चेतावनी भी दी कि अगर वे अपने घोषणा पत्र में किए वादों को जल्द पूरा नहीं करते हैं तो भाजपा के खिलाफ प्रदेश और देश में बहुत बड़ा आंदोलन हम करेंगे|

राजेश सिंह चौहान ने महेंद्र सिंह टिकैत को महात्मा और अपना आदर्श बताया. साथ ही ये भी संदेश दे दिया कि वे राकेश टिकैत और नरेश टिकैत को लेकर नरमी नहीं बरतने वाले. उन्होंने राकेश टिकैत पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि वे महेंद्र सिंह टिकैत के आदर्शों को भूल गए हैं. उन्होंने राकेश और नरेश टिकैत पर हमला बोलते हुए कहा कि उनके पुत्रों ने उनकी विरासत को बेच दिया|

यह भी पढ़ें :- ज्ञानवापी मस्जिद पर AIMPLB ने बनाई कानूनी कमेटी, आंदोलन की चेतावनी !!

राजेश सिंह चौहान ने कहा कि विरासत पुत्र को जाती है, राजनीतिक दल और संगठन पुत्र को नहीं जानते. लखनऊ के बीकेयू कार्यालय के बकाया बिजली बिल को लेकर उन्होंने कहा कि कार्यालय मेरे नाम से है, मुझे इसकी जानकारी नहीं थी. मुझे इसकी जानकारी मीडिया के माध्यम से हुई है. न मेरा पहचान पत्र लगा है और न ही कोई हस्ताक्षर. राजेश सिंह चौहान ने कहा कि अब इसका जवाब राकेश टिकैत देंगे|

उन्होंने ये भी कहा कि, राकेश और नरेश टिकैत का मेरे ऊपर कोई एहसान नहीं है. जो एहसान है, महेंद्र सिंह टिकैत का है. राजेश सिंह चौहान ने राकेश टिकैत पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि राकेश टिकैत को संगठन में काम करने का अनुभव मात्र 11 साल का है. पिछले 33 साल से संगठन में काम कर रहा हूं. राजेश सिंह चौहान ने कहा कि 11 साल वाला सीनियर है या 33 साल वाला, इसका निर्णय किसान करेंगे|

Pinterest
LinkedIn
Share
Telegram
WhatsApp