राज्यसभा चुनाव : यूपी में सहयोगी दलों को सीट देने के मूड में नहीं भाजपा !!

हाइलाइट्स –
यूपी की 11 राज्यसभा सीटों पर 10 जून को चुनाव !
यूपी भाजपा ने 21 नाम तय कर नेतृत्व को भेजा !

लखनऊ !!
उत्तर प्रदेश की 11 राज्यसभा सीटों पर 10 जून को चुनाव होना है. बताया जा रहा है कि यूपी भाजपा ने इन सीटों के लिए 21 नामों को तय किया है. इन्हें केंद्रीय नेतृत्व को भेज दिया गया है. नामों पर आखिरी मुहर केंद्रीय नेतृत्व द्वारा ही लगाई जाएगी. बताया जा रहा है कि, भाजपा राज्यसभा की एक भी सीट अपनी सहयोगी पार्टियों को देने के मूड में नहीं है. सभी सीटों पर भाजपा ने अपने ही नेताओं को भेजने का फैसला किया है|

यह भी पढ़ें :- यूपी बजट 2022: बुजुर्गों-दिव्यांगों को अब 1000 रुपए पेंशन, संतों-पुजारियों के लिए बोर्ड !!

दरअसल, भाजपा ने अपना दल और निषाद पार्टी के साथ मिलकर विधानसभा चुनाव लड़ा था. अनुप्रिया पटेल ने राज्यसभा के लिए एक सीट की मांग भी की थी. सूत्रों के मुताबिक, जो 21 नाम भेजे गए हैं, उनमें सहयोगी दलों के किसी नेता का नाम नहीं है. बताया जा रहा है कि, यूपी भाजपा की ओर से जो 21 नाम भेजे गए हैं, उनमें संजय सेठ, जय प्रकाश, जफर इस्लाम, नरेश अग्रवाल, प्रियंका रावत, शिव प्रताप शुक्ला, सुरेंद्र नागर के नाम शामिल हैं. राज्यसभा चुनाव में नामांकन की आखिरी तारीख 31 मई है|

यूपी में 11 राज्यसभा सांसदों का कार्यकाल पूरा हो रहा है. इनमें से भाजपा के 5, सपा के 3, बसपा के 2 और कांग्रेस का 1 सांसद है. विधानसभा चुनाव में भाजपा गठबंधन ने 273 सीटें जीती हैं. जबकि सपा गठबंधन के पास 125 विधायक हैं. इसके अलावा कांग्रेस के पास 2, बसपा के पास एक और राजा भैया के पास दो विधायक हैं|

यह भी पढ़ें :- जयंत चौधरी को मिला राज्यसभा का टिकट, सपा और RLD के होंगे संयुक्त प्रत्याशी !!

यूपी विधानसभा में कुल 403 सीटें हैं. ऐसे में एक सीट जीतने के लिए 37 विधायकों के वोट जरूरी हैं. भाजपा का 11 में 7 पर जीतना तय माना जा रहा है. वहीं, सपा गठबंधन भी 3 सीटों पर आसानी से जीत सकती है. पेंच सिर्फ एक सीट पर फंसने के आसार हैं. 11वीं सीट के लिए भाजपा और सपा के पास 14-14 अतिरिक्त विधायक बचेंगे. ऐसे में क्रॉस वोटिंग, सेंधमारी और निर्दलीय विधायकों के सहारे 11वीं सीट पर जीत हासिल की जाएगी|

Pinterest
LinkedIn
Share
Telegram
WhatsApp